You are here
Home > अपराध > टीचर के सबंध थे बच्चे की मां से, एक दिन उसने बच्चे को ही रास्ते से हटा दिया

टीचर के सबंध थे बच्चे की मां से, एक दिन उसने बच्चे को ही रास्ते से हटा दिया

टीचर

टीचर के सबंध थे बच्चे की मां से, एक दिन उसने बच्चे को ही रास्ते से हटा दिया, भोपाल  में सेकंड क्लास के स्टूडेंट भरत महावर की गला घोंटकर हत्या करने वाला टीचर विशाल रूपाणी सनसनीखेज वारदात के बाद भी बेखौफ है। न उसके चेहरे पर शिकन है और न ही कोई पछतावा। वहीं जब मासूम की मां का सामना अपने ही बेटे के हत्यारे टीचर से हुआ तो महिला ने अपने पति के सामने टीचर से रिलेशनशिप की बात को कबूल किया है। गुरुवार को पुलिस ने आरोपी हत्यारे विशाल, मृतक बच्चे की मां और पिता का आमना-सामना करवाया। इस दौरान महिला ने पति के सामने कबूल किया कि उसका विशाल से मिलना-जुलना भी था। वह उसके साथ घूमने भी जा चुकी है। हालांकि, अब तक वह विशाल से बातचीत की बात ही कह रही थी।

इसे भी पढ़िए:   पति को बनाना था शारीरिक संबंध, पत्नी तैयार नहीं थी, इस बात पर मारा कापा!

 साधु वासवानी स्कूल में विशाल के साथ पढ़ चुकी महिला ने बताया वह स्कूल में भी जरा-जरा सी बात पर उखड़ जाता था। दोस्त भी यदि बात नहीं मानते थे तो उनसे मारपीट करने लगता था। झगड़ालू होने के कारण कम ही बच्चे उससे बात करते थे।  भरत की मां का कहना है विशाल परिवार के अन्य मेंबर के साथ नॉर्मल रहता था, लेकिन पढ़ाते हुए बच्चे के साथ जरूर मारपीट करता था। हम लोग जाते थे तो कहता था आप लोग बाहर जाएं मुझे अपने तरीके से पढ़ाने दें। उसके मन में मुझे लेकर कुछ चल रहा था।

इसे भी पढ़िए:   फूफा ने भतीजी को तब तक बनाया हवस का शिकार, जब तक वो गर्भवती नहीं हो गई

पुलिस ने उसे 9 जनवरी की दोपहर 2:10 बजे अरेस्ट में किया था। वारदात के कबूलनामे के बाद भी उसने खान-पान जारी रखा। पुलिस के मुताबिक, हरकतों पर हैरानी इसलिए भी हुई, क्योंकि अभी उसकी उम्र महज 19 साल है। पूरी लाइफ सामने है, लेकिन करतूत पर उसे कोई अफसोस नहीं है। गुरुवार शाम करीब साढ़े पांच बजे तक वह पुलिस की कस्टडी में था। अदालत में पेश कर उसे जेल भेजा गया तो भी वह वैसा ही रहा, जैसा वह पहली बार थाने लाए जाने पर था। पुलिस ने इस दौरान उसकी बॉडी लैंग्वेज और बातचीत पर नजर रखी तो पता चला कि महज 19 साल का विशाल कोल्ड ब्लडेड मर्डरर है। एक ऐसा व्यक्ति, जिसे किसी संगीन वारदात करने के बाद भी कोई गम नहीं होता।

Top