You are here
Home > देश > ट्रांसजेंडर का रेप करने पर सिर्फ 2 साल की सज़ा, ट्रांसजेंडर समुदाय नाराज़

ट्रांसजेंडर का रेप करने पर सिर्फ 2 साल की सज़ा, ट्रांसजेंडर समुदाय नाराज़

ट्रांसजेंडर

ट्रांसजेंडर का रेप करने पर सिर्फ 2 साल की सज़ा, ट्रांसजेंडर समुदाय नाराज़, संसद के शीतकालीन सत्र में ट्रांसजेंडर पर्सन बिल, 2016 पेश होने वाला है। इस बिल को लेकर ट्रांसजेंडर समुदाय नाराज़ है। कहा जा रहा है कि ये बिल सुप्रीम कोर्ट के ऐतिहासिक नाल्सा (NALSA)जजमेंट की अच्छी बातों को खत्म कर देगा। थर्ड जेंडर और बाकी ट्रांसजेंडर समुदायों की भलाई के लिए नाल्सा जजमेंट को ऐतिहासिक माना जाता है।

इसे भी पढ़िए:   प्रेम के लिए खुद की जान देने की कोशिश की 17 साल की लड़की ने!

नए कानून के मुताबिक ट्रांसजेंडर वो व्यक्ति होगा जो पूरी तरह पुरुष या महिला न हो। या जिसका मानसिक जेंडर उसके शरीर से न मिलता हो। किसी भी ट्रांसजेंडर को इस परिभाषा के हिसाब से एक सर्टिफिकेट लेना पड़ेगा। ये सर्टिफिकेट डीएम जारी करेगा। एक स्क्रीनिंग कमेटी डीएम को हर व्यक्ति के लिए रिकमेंडेशन जारी करेगी। कमेटी में एक मेडिकल ऑफिसर, सायक्लॉजिस्ट, सरकारी अफसर और एक ट्रांसजेंडर शामिल होगा। अपनी शारीरिक पहचान के लिए किसी तरह के सर्टिफिकेट लेना किसी भी व्यक्ति के लिए अपमानित करने वाला अनुभव हो सकता है। ये वैसा ही है कि आपको नौकरी का फॉर्म भरने के लिए डॉक्टर के सामने खुद को पुरुष या महिला साबित करना हो।

इसे भी पढ़िए:   वीरेंद्र देव दीक्षित रखता था आश्रम की लड़कियों के पीरियड्स की डिटेल्स!

नए बिल के अनुसार ऐसे व्यक्ति को अपनी ट्रांस अधिकारों के लिए मेडिकल सर्टिफिकेट की जरूरत पड़ेगी। इससे पहले नाल्सा जजमेंट में सुप्रीम कोर्ट का कहना था कि जेंडर से जु़ड़ी पहचान किसी भी व्यक्ति के अंदर से आ सकती है। बिल में दो और समस्याएं हैं। ट्रांस जेंडर व्यक्ति से पैसे मंगवाना, आम जगहों पर आने-जाने से रोकना अपराध माना जाएगा। इनमें से किसी भी अपराध या ट्रांस जेंडर के साथ यौनशोषण, बलात्कार या किसी तरह की हिंसा करने पर 2 साल तक की सजा होगी। किसी भी व्यक्ति के साथ यौनशोषण करने पर कम से कम 7 सात साल की सज़ा होती है। क्या ट्रांसजेंडर ‘बाकियों से कम इंसान’ हैं जो उनके साथ यौन हिंसा में सजा कम होगी। अगर जन्म से कोई महिला खुद को पुरुष की तरह देखती है और उसके साथ बलात्कार होता है तो क्या दोषी को मात्र 2 साल की सजा होगी।

इसे भी पढ़िए:   भारत में दो तिहाई बच्चे शारीरिक शोषण के शिकार, रिपोर्ट में हुआ खुलासा

ट्रांसजेंडर महिला के साथ करीब 2000 बार रेप

ट्रांसजेंडरआपको बता दें कि ब्रिसबेन के क्वींसलैंड की जेल में सजा काट चुकी ट्रांसजेंडर महिला के साथ करीब 2000 बार रेप किया गया। गलती इतनी थी कि उसे मर्दों की जेल में बंद कर दिया गया था। इस महिला को कार चुराने के जुर्म में कोर्ट ने उसे 4 साल की कैद की सजा सुनाई थी। इसके बाद उसे ब्रिसबेन के क्वींसलैंड स्थित पुरुषों के लिए बनी बोगो रोड जेल में बंद कर दिया गया।

उसने बताया कि जेल पहुंचते ही उससे बलात्कार का सिलसिला शुरू हो गया और सजा पूरी होते-होते उससे करीब 2000 बार रेप हुआ। उसके जेल पहुंचने के बाद जैसे ही वहां मौजूद कैदियों और अन्‍य लोगों को पता चला कि वह ट्रांसजेंडर है तो उसे पूरे कपड़े उतार कर अपना शरीर दिखाने को कहा गया। उसके बाद उससे रेप का सिलसिला शुरू हो गया।कई बार विरोध करने के बाद आखिरकार वह समझ गई कि अगर जिंदा रहना है और अपने आप को सुरक्षित रखना है तो सेक्‍स के लिए हैवान बने इन लोगों की बात माननी होगी। उसने जेल को नर्क से भी बद्तर करार दिया। महिला ने बताया कि उसने 3 बार जेल से भागने की कोशिश की, लेकिन हर बार वह असफल रही।

 

Leave a Reply

Top