You are here
Home > ज्योतिष > कुंडली बताती है कि किसके कितने थे ब्वॉयफ्रैंड या फिर गर्लफ्रैंड!

कुंडली बताती है कि किसके कितने थे ब्वॉयफ्रैंड या फिर गर्लफ्रैंड!

कुंडली

कुंडली बताती है कि किसके कितने थे ब्वॉयफ्रैंड या फिर गर्लफ्रैंड! आजकल युवाओं की बदलती मानसिकता और नए ट्रेंड ने सबकुछ बदल कर रख दिया है। मॉर्डन सोच के लोगों ने जिंदगी और रिश्तों के लिए अपने नए मायने बना लिए हैं। इनकी सोच सिर्फ लव, सेक्स और धोखा बन गई है। ऐसे में ये पता करना मुश्किल हो जाता है कि कौन आपसे प्यार करता है और कौन आपके पैसों से? ज्योतिष की माने तो सितारें ये बता सकते है कि किसका कैरेक्टर ठीक नहीं है? ज्योतिष के अनुसार लड़के-लड़कियों की कुंडली में मंगल, शुक्र और चंद्र की स्थिति ये बताती है कि किसका कैरेक्टर कैसा है।

जाहिर है कि कुंडली की इन बातों को परख कर आप अपने लिए बेहतर पार्टनर चुन सकते हैं। आखिर कोई भी हो चाहे लड़का हो या फिर लड़की वो अपने पार्टनर को गैर की बाहों में देखना पसंद नहीं करता है। लेकिन कभी कभी ग्रहों की वजह से उसे धोखा मिल जाता है। तो आप भी इस तरह के धोखे से बच सकते हैं। अगर थोड़ा सा ध्यान रखें।

अगर किसी लड़की की कुंडली में कन्या राशि के साथ मंगल होता है तो ऐसी लड़कियों का चरित्र संदेह के घेरे में होता है। किसी भी कुंडली में शुक्र और मंगल एक राशि नहीं होने चाहिए, अगर ऐसा होता है तो लड़का या लड़की कोई भी हो उसके एक से अधिक प्रेम संबंध होते हैं।

किसी लड़की की कुंडली के पहले भाव में जो राशि (नंबर) हो उस राशि का स्वामी पाप ग्रहों के साथ मिल कर बारहवें भाव में होता है तो ऐसी लड़की का कैरेक्टर ढीला होता है।कुंडली के पहले घर में कन्या राशि (6 नंबर) के साथ मंगल हो और सातवें घर में शुक्र हो तो ऐसी लड़कियों के एक से अधिक संबंध होते हैं। जिन लड़कों की कुंडली में चंद्र और शुक्र एक ही राशि में होते हैं वो लड़के लव, सेक्स और धोखे में विश्वास करते हैं।

इसे भी पढ़िए:   अमावस्या के दिन भूल कर भी ना करें सेक्स, नहीं तो पड़ जाएंगे लेने के देने
Top