You are here
Home > ज्योतिष > वर्जिन लड़की से संबंध बनाकर लोग अमर होना चाहते थे

वर्जिन लड़की से संबंध बनाकर लोग अमर होना चाहते थे

वर्जिन

वर्जिन लड़की से संबंध बनाकर लोग अमर होना चाहते थे, करीब 300 ईसा पूर्व प्राचीन चीन में  शारीरिक संबंध का मैन्युअल फॉलो किया जाता था। इसके मुताबिक अगर कोई पुरुष हर रात अलग-अलग वर्जिन लड़कियों से शारीरिक संबंध बनाता है और इस दौरान स्खलन नहीं होता तो वह पुरुष अमर हो जाता था। सन 1894 में शारीरिक संबंध को घिनौना माना जाता था लेकिन इसे भोगना जरूरी होता था। इसलिए जब दो लोग शारीरिक संबंध के दौरान संलग्न होते थे तो उन्हें पूरी तरह से अंधेरे में इसे करना होता था। महिलाओं से अपेक्षा की जाती थी कि वे शारीरिक संबंध के दौरान चुपचाप लेटी रहें और किसी तरह की आवाज न निकालें।

इसे भी पढ़िए:   कामदेव के इस मंत्र का जाप करने से लड़की आपको मना नहीं कर पाएगी!

शारीरिक संबंध ये शब्द आते ही कई तरह की बातें और धारणाएं सुनने को मिलती हैं। कुछ बातें किसी के लिए सही होती हैं तो वही बातें किसी दूसरे के लिए गलत। हम आपको बता रहे हैं कि शारीरिक संबंध से जुड़ी कुछ ऐसी ऊटपटांग बातों के बारे में जो सदियों पहले हमारे समाज में हुआ करती थीं।करीब 300 ईसा पूर्व प्राचीन चीन में एक शारीरिक संबंध मैन्युअल फॉलो किया जाता था। इसके मुताबिक अगर कोई पुरुष हर रात अलग-अलग वर्जिन लड़कियों से शारीरिक संबंध बनाता है और इस दौरान स्खलन नहीं होता तो वह पुरुष अमर हो जाता था।

इसे भी पढ़िए:   महिलाएं इसलिए पसंद करती हैं गैर मर्द से सेक्स करना!

साल 1888 में शारीरिक संबंध पर एक गाइड रिलीज की गई थी जिसके मुताबिक महिलाएं अगर कॉर्सेट पहनकर शारीरिक संबंध बनाती थीं तो उनका आनंद बढ़ जाता था। ऐसा इसलिए क्योंकि कॉर्सेट बेहद टाइट होता था जिससे खून के दिल में वापस पहुंचने में अवरोध उत्पन्न होता था जिससे ऑर्गन चार्ज्ड हो जाते और एक्साइमेंट पीक पर पहुंच जाता था। इसके अलावा यह भी मान्यता थी कि बालों का बड़ा और भारी जूड़ा बनाने से छोटे दिमाग पर प्रेशर पड़ता था जिससे ऑर्गन में गर्मी बढ़ जाती थी।

इसे भी पढ़िए:   अमावस्या के दिन भूल कर भी ना करें सेक्स, नहीं तो पड़ जाएंगे लेने के देने

प्राचीन असीरिया में वैश्यावृति का अजीबोगरीब रिवाज था। वहां भी सभी कुंआरी लड़कियों के लिए वैश्यावृति करना अनिवार्य था। आकर्षण हासिल करने के लिए कुंआरी लड़कियों को अनजान मर्दों से शारीरिक संबंध बनवाया जाता था। इस रिवाज को पवित्र माना जाता था और इसे ऊंची जाति और निची जाति दोनों ही तरह की महिलाओं को फॉलो करना पड़ता था।

Top