You are here
Home > देश > हनी ट्रैप में जज को फंसाकर लीक करवा लिया था पेपर!

हनी ट्रैप में जज को फंसाकर लीक करवा लिया था पेपर!

हनी ट्रैप

हनी ट्रैप में जज को फंसाकर लीक करवा लिया था पेपर! हरियाणा में 109 जजों की भर्ती के लिए 16 जुलाई को हुए पेपर को हाईकोर्ट के पूर्व रजिस्ट्रार (रिक्रूटमेंट) एवं एडिशनल एंड सेशन जज बलविंदर कुमार शर्मा ने ही लीक किया था। भले ही इस पेपर को 10-10 लाख में बेचा गया लेकिन इसके लिए जज ने पैसे नहीं लिए थे। असलियत में एडवोकेट सुनीता ने जज को हनी ट्रैप में फंसा कर पेपर लीक करवा लिया था। डीएसपी कृष्ण कुमार की अगुआई में बनी स्पेशल इन्वेस्टिगेशन टीम (एसआईटी) द्वारा शुक्रवार को जिला अदालत में दी गई चार्जशीट में इसका खुलासा किया गया है।

इसे भी पढ़िए:   लिव इन रिलेशनशिप | जानिए अपने अधिकार | क्या सबूत होते हैं ज़रूरी!

कानूनन किसी भी आरोपी के पकड़े जाने के 60 दिनों में चार्जशीट दायर करनी होती है। सुनीता की गिरफ्तारी को रविवार (7 जनवरी) को 60 दिन पूरे हो रहे हैं। अगर शनिवार तक चार्जशीट दायर न होती तो सुनीता को जमानत मिल जाती। इसलिए पुलिस ने चार्जशीट दायर की। हालांकि चार्जशीट में दो को ही आरोपी बनाया है। साथ ही कहा है कि कई और भी आरोपी हो सकते हैं। जांच अभी अधूरी है। सप्लीमेंटरी चार्जशीट दायर की जा सकती है। पुलिस ने चार्जशीट में जज और सुनीता के बीच जिस सीक्रेट नंबर से बातचीत होती थी, उसकी कॉल डिटेल टॉवर लोकेशन के साथ चार्जशीट में लगाई है। इस नंबर पर दोनों में 1100 बार दोनों में बातचीत हुई। इसके अलावा ऑफिशियल नंबर पर भी करीब 700 बार बातचीत हुई है।

इसे भी पढ़िए:   युवती ने दो महिलाओं से की शादी, सेक्स टॉय की मदद से करती थी सेक्स

बताया है कि सुनीता और बलविंदर में क्लोज फ्रैंडशिप हो गई थी। दोनों कई जगह एक साथ घूमने भी जाते थे। कई बार सेक्टर-18 के जिस मंदिर में सुनीता रहती थी, बलविंदर वहां उससे मिलने के लिए भी जाते थे। ऐसी ही एक मुलाकत के दौरान जज ने रीक्रूटमेंट का पेपर सुनीता को मंदिर जाकर दिया ताकि वह पास हो जाए। लेकिन सुनीता ने उस पेपर को लाखों रुपए में बेच दिया।

इसे भी पढ़िए:   शादी का वादा करके सहमति से सेक्स करना रेप के दायरे में नहीं! मप्र सरकार की तैयारी

एसआईटी ने 2140 पेजों की चार्जशीट में कुल 35 गवाहों को शामिल किया है। इसमें सुनीता और जज बलविंदर शर्मा की क्लोज रिलेशनशिप के बारे में डिटेल से जानकारी दी गई है। दोनों कहां-कहां साथ घूमने गए, कब-कब आपस में बातचीत की, दोनों के माेबाइल फोनकी टावर लोकेशन भी पुलिस ने चार्जशीट में लगाई है। कई अन्य टेक्नीकल एवीडेंस लगाए हैं। दोनों आरोपी फिलहाल जेल में हैं। इस संबंध में सीक्रेट रिपोर्ट यूटी पुलिस ने हाईकोर्ट में भी भेज दी है।

Leave a Reply

Top