You are here
Home > विज्ञान > वर्जिनिटी खो चुकी लड़कियां धड़ल्ले से करवा रही हैं सर्जरी, कौमार्य वापस पाने के लिए

वर्जिनिटी खो चुकी लड़कियां धड़ल्ले से करवा रही हैं सर्जरी, कौमार्य वापस पाने के लिए

वर्जिनिटी

वर्जिनिटी खो चुकी लड़कियां धड़ल्ले से करवा रही हैं सर्जरी, कौमार्य वापस पाने के लिए, इस बात से आप अच्‍छी तरह वाकिफ होंगे कि लड़कियों के शादी से पहले पुरुष दोस्‍तों से शारीरिक संबंध, लिव-इन रिलेशनशिप, आदि की वजह से कई लड़कियों की शादी में रुकावटें आती हैं। अगर शादी के बाद पता चलता है कि लड़की का कौमार्य यानी वर्जिनिटी पहले ही भंग हो चुकी है, तो शादी टूटने तक की नौबत आ जाती है, जबकि जरूरी नहीं है कि वर्जिनिटी भंग होने का कारण शारीरिक संबंध ही हों। साइंस की तरक्‍की तो देखिये, इसका हल भी अब डॉक्‍टरों ने खोज निकाला है। जी हां तमाम लड़कियां अब योनिच्छद की सर्जरी करा कर खोई हुई वर्जिनिटी वापस प्राप्‍त कर लेती हैं।

इसे भी पढ़िए:   नेत्रहीन भी देख सकेंगे पॉर्न वीडियोज़, एक पॉर्न चैनल ने कर दी है शुरुआत

डॉक्‍टरों का कहना है कि अपर क्‍लास और लोअर क्‍लास में वर्जिनिटी बड़ा मुद्दा नहीं, लेकिन मिडिल और अपर मिडिल में, खास तौर से रूढ़ीवादी परिवारों में इस बात का खयाल ज्‍यादा रखा जाता है। वर्जिनिटी वापस लाने के लिये की जाने वाली सर्जरी एक प्रकार की प्‍लास्टिक सर्जरी होती है, जिसमें ज्‍यादा खर्च भी नहीं आता है। चिकित्‍सीय रूप से यह सुरक्षित भी है। यही कारण है कि इसका प्रचलन भारत में तेजी से बढ़ रहा है। एलएनजेपी के वरिष्ठ प्लास्टिक सर्जन डॉ. पीएस भंडारी का कहना है कि हाइमन से जुड़े कई तरह के मिथक भी हैं। आमतौर पर कहा जाता है कि झिल्ली पहली बार सहवास करने से फट जाती है और उससे रक्तस्राव होता है। जबकि सच यह है कि ये साइकलिंग, घुड़सवारी या कबड्डी जैसे गेम्स से भी हो सकता है। लेकिन अस्पताल आने वाली लड़कियां अक्सर उनसे कहती हैं कि दूसरों की सोच बदलने से अच्छा है खुद को बदल लो।

इसे भी पढ़िए:   लैपटॉप पर पॉर्न देखते हैं तो हो जाएं सावधान! कोई बना रहा है आपका वीडियो!

डॉक्टरों की मानें तो पिछले तीन वर्षों में दिल्ली के सरकारी अस्पतालों में शादी से पहले इस तरह के ऑपरेशन कराने वालों की संख्या दोगुनी रफ्तार से बढ़ी हैं। सफदरजंग और लोकनायक अस्पताल में हर महीने एक से दो केस प्लास्टिक सर्जरी विभाग की ओपीडी में पहुंच रहे हैं। डॉक्टरों का कहना है कि अब लड़कियां बगैर किसी झिझक अस्पताल पहुंचती हैं। जो लड़कियां ऐसे दौर से गुजरती हैं, वो कई बार अपनी बात को दबा जाती हैं, जिस कारण उन्‍हें भविष्‍य में कई तकलीफें झेलनी पड़ती हैं। लेकिन अब जमाना बदल रहा है तमाम लड़कियां खुलकर बताने लगी हैं। नागपुर की गायनाकोलॉजिस्‍ट डा. मंगला घीसद के अनुसार लड़कियां उनके पास आती हैं और योनिच्‍छद को रिपेयर करने के लिये पूछती हैं। क्‍योंकि वो जानती हैं, कि अगर उनकी शादी किसी रूढ़ी वादी परिवार में हो गई, तो उनका जीना मुश्किल हो जायेगा।

इसे भी पढ़िए:   ओरल सेक्स के शौकीनों के लिए नई खोज, पढ़ कर हैरान रह जाएंगे आप!

डा. घीसद का कहना है कि यह बात बताने में लड़कियां इसलिये घबराती हैं, क्‍योंकि उन्‍हें डर होता है कि कहीं उनकी पहचान का खुलासा न हो जाये। लेकिन इस मामले में लगभग सभी क्‍लीनिक नियमों का पालन करते हुए कभी लड़की की पहचान किसी अन्‍य व्‍यक्ति को नहीं बताते, फिर चाहे लड़की के पिता ही क्‍यों न पूछने आ जायें। कई मामलों में देखा गया है, कि मां-बाप खुद अपनी बेटी को लेकर आते हैं, इस सर्जरी के लिये। वैसे यह अच्‍छा भी है, वर्जिनिटी भंग होने का कारण कुछ भी रहा हो, यदि मां-बाप साथ हैं, तो लड़की का मनोबल टूटता नहीं है।

इसे भी पढ़िए:   पेनिसिलिन के इस्तेमाल से दुनिया में आई यौन क्रांति, रिसर्च में दावा

वर्जिनिटी सर्जरी कैसे होती है

इसमें पहले गायनाकोलॉजिस्‍ट एक रिपोर्ट तैयार करती है, जो प्‍लास्टिक सर्जन के पास जाती है। सर्जन एक सर्जरी के माध्‍यम से योनि की टूटी हुई झिल्‍ली को रिपेयर कर दिया जाता है। इसमें योनि की खाल से काटकर योनिच्‍छद का निर्माण किया जाता है। साथ ही वह झिल्‍ली भी तैयार कर दी जाती है, जिसमें से कौमार्य टूटते वक्‍त खून बहा था। यह एक सुरक्षित सर्जरी होती है, जिसमें मात्र 2 दिन के लिये लड़की को अस्‍पताल में भर्ती होना होता है। इसी प्रकार की एक हाइमेनोप्‍लास्‍टी होती है, जो बलात्‍कार की शिकार लड़कियों में की जाती है, ताकि उनका कौमार्य वापस आ सके।

Top