You are here
Home > अपराध > फेसबुक फ्रैंड ने मिलने को बुलाया और कार में ही किया महिला का रेप!

फेसबुक फ्रैंड ने मिलने को बुलाया और कार में ही किया महिला का रेप!

फेसबुक फ्रैंड

फेसबुक फ्रैंड ने मिलने को बुलाया और कार में ही किया महिला का रेप! दक्षिण अफ्रीका में एक महिला के साथ फेसबुक फ्रैंड द्वारा रेप किए जाने की सन्न कर देने वाली खबर आई है। फेसबुक फ्रैंड बनने के महज तीसरे दिन पहली मुलाकात में ही आरोपी ने महिला का रेप किया। रेप के बाद उसने महिला का सेल फोन छीन लिया और हैंडबैग फेंक दिया। आरोपी को अब तक गिरफ्तार नहीं किया जा सका है।

इसे भी पढ़िए:   नाबालिग लड़की से गैंगरेप, नए साल के जश्न मना रहे थे लड़के

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, फेसबुक पर दोस्ती होने के तीसरे दिन इसी साल 4 जनवरी को वे पहली बार सोवेटो में ही एक शॉपिंग मॉल में मिले। पीड़िता के मुताबिक, आरोपी भी विवाहित है और उसके विवाहित होने के बारे में जानकर पीड़िता ने उससे दोस्ती आगे ले जाने की अनिच्छा भी जता दी थी। हालांकि जब उसने मिलने की इजाजत मांगी तो वह इनकार नहीं कर सकी और वे शॉपिंग मॉल में मिले। स्थानीय न्यूज वेबसाइट ‘सोवेटनलाइव’ की रिपोर्ट के मुताबिक, उन्होंने साथ में लंच किया और उसके बाद पीड़िता ने आरोपी से अपनी कार में घर छोड़ने के लिए कहा।

इसे भी पढ़िए:   देवर ने भाभी के आशिक को मारी गोली, फिर करंट लगाकर मार डाला

हालांकि आरोपी पीड़िता को घर छोड़ने की बजाय एक सूनसान जगह ले गया और धूप में गाड़ी चालकर थके होने का बहाना बनाया। उसने सूनसान जगह एक पेड़ के नीचे कार रोकी और आराम करने के लिए कार से बाहर निकल गया। इस बीच पीड़िता भी कार से बाहर निकली और किसी को फोन करने लगी। तभी आरोपी आया और पीड़िता को जबरन बाल से पकड़कर कार के अंदर खींच ले गया । कार के अंदर ही उसने जान से मारने की धमकी देकर पीड़िता से रेप किया फिर उसे उसी हालत में वहीं छोड़कर चला गया।

इसे भी पढ़िए:   नाबालिग लड़की को अगवा कर उसके जिस्म को नोचा तीन दरिंदों ने!

पीड़िता दक्षिण अफ्रीका में गौटेंग प्रांत के सोवेटो की रहने वाली है। 25 वर्षीय पीड़िता दो बच्चों की मां भी है। रेप की घटना के तीन दिन पहले ही फेसबुक पर उसकी आरोपी से दोस्ती हुई थी। पीड़िता के मुताबिक, फेसबुक चैट पर उसे आरोपी को लेकर किसी तरह का संदेह पैदा नहीं हुआ था। रेप के बाद पीड़िता को मदद के लिए किसी व्यक्ति तक पहुंचने के लिए करीब एक घंटे पैदल चलना पड़ा। हालांकि बीच में ही उसे सोशल डेवलपमेंट ऑफिसर की गाड़ी गुजरती दिखी और उन्होंने पीड़िता की मदद की।

Top