You are here
Home > लाइफस्टाइल > एक्स्ट्रा मैरिटल अफेयर के इन कारणों को ज़रूर पढ़ें, क्या पता आपका पार्टनर कर रहा हो

एक्स्ट्रा मैरिटल अफेयर के इन कारणों को ज़रूर पढ़ें, क्या पता आपका पार्टनर कर रहा हो

एक्स्ट्रा मैरिटल अफेयर

एक्स्ट्रा मैरिटल अफेयर के इन कारणों को ज़रूर पढ़ें, क्या पता आपका पार्टनर कर रहा हो , पिछले एक-डेढ़ दशक से हमारे देश में एक्स्ट्रा मैरिटल अफेयर के मामले बढ़े हैं। वर्क प्लेस पर एक्स्ट्रा मैरिटल अफेयर की संभावना अधिक होती है। आज मेट्रो सिटीज़ में अच्छी लाइफस्टाइल के लिए कपल्स ने ख़ुद को इस हद तक व्यस्त कर दिया है कि उनके पास घर-परिवार की छोड़िए, एक-दूसरे के लिए भी समय नहीं है। 8-12 घंटे की जॉब और ट्रैवलिंग में 1-2 घंटे बर्बाद करने के बाद वो इस कदर थक जाते हैं कि एक-दूसरे से बात करने कि बजाय नींद की आगोश में जाना ज़्यादा पसंद करते हैं। नतीजतन दोनों के बीच दूरियां बढ़ती जाती हैं और पार्टनर की प्यार की कमी की भरपाई के लिए वो बाहर प्यार तलाशने लगते हैं।

सबसे आगे निकलने की होड़ और बढ़ती प्रतिस्पर्धा ने युवाओं बहुत कम उम्र में प्रैक्टिकल बना दिया है। प्रोफेशनल लाइफ के साथ-साथ वो अब अपनी पर्सनल लाइफ के बारे में भी प्रैक्टिकल होकर सोचने लगे हैं। एक-दूसरे के इमोशन्स, फिलिंग आदि से उन्हें कोई ख़ास मतलब नहीं होता। ऐसे में ख़ुद को ख़ुश रखने के लिए वो प्रैक्टिकल तरी़के से सोचते हुए एक्स्ट्रा मैरिटल अफेयर को ग़लत नहीं समझते।

वर्क प्लेस पर एक्स्ट्रा मैरिटल अफेयर की संभावना अधिक होती है। आज मेट्रो सिटीज़ में अच्छी लाइफस्टाइल के लिए कपल्स ने ख़ुद को इस हद तक व्यस्त कर दिया है कि उनके पास घर-परिवार की छोड़िए, एक-दूसरे के लिए भी समय नहीं है। 8-12 घंटे की जॉब और ट्रैवलिंग में 1-2 घंटे बर्बाद करने के बाद वो इस कदर थक जाते हैं कि एक-दूसरे से बात करने कि बजाय नींद की आगोश में जाना ज़्यादा पसंद करते हैं। नतीजतन दोनों के बीच दूरियां बढ़ती जाती हैं और पार्टनर की प्यार की कमी की भरपाई के लिए वो बाहर प्यार तलाशने लगते हैं।

कपल्स हेक्टिक लाइफस्टाइल और स्ट्रेस को कम करने के लिए एक्स्ट्रा मैरिटल अफेयर रखते हैं। वर्क प्लेस पर होने वाले एक्स्ट्रा मैरिटल अफेयर की एक वजह स्ट्रेस भी है, जिससे छुटकारा पाने के लिए कुछ पाटर्नर अपने कलीग के साथ सेक्सुअल रिलेशन बनाते हैं। इससे उन्हें सुख का एहसास होता है और वो ख़ुद को संतुष्ट भी महसूस करते हैं। ऐसे लोग एक्स्ट्रा मैरिटल अफेयर को ज़्यादा एंजॉय करते हैं, क्योंकि ऐसे अफेयर्स में पार्टनर के प्रति उन पर किसी तरह की कोई ज़िम्मेदारी नहीं होती है।

बहुत से लोगों की शादी गलत कारणों से हो जाती है, जैसे परिवार और समाज के दबाव में. लोग बिना किसी आपसी सहमति के साथ एक जीवनसाथी चुन लेते हैं। बाद में उन्होंने अपनी गलती का एहसास होता है कि उन्हें किसी के दबाव में या आपसी सहमति के जीवनसाथी चुनकर बहुत बड़ी गलती कर दी। इस बीच अगर वो किसी ऐसे व्यक्ति से मिलते हैं जो उसकी पत्नी या पति से बेहतर है तो उसकी रूचि उसमें बढ़ने लगती है और एक्स्ट्रा मैरिटल अफेयर कर बैठते हैं।

महिला हो या पुरूष। एक्स्ट्रा मैरिटल अफेयर का यह भी सबसे बड़ा कारण बनता है। पति या पत्नि एक दूसरे को यौन संतुष्टि देने में अक्षम होते हैं तब एक्स्ट्रा मैरिटल अफेयर के माध्यम से यौन संतुष्टि की चाह होने लगती है।

जहां प्यार होता है, वहां अहंकार की कोई जगह नहीं होती, लेकिन आज के कपल्स के बीच प्यार के लिए कोई जगह नहीं है, उनकी नज़र में ईगो ही सबसे बड़ा हो जाता है, जिसकी वजह से न वो पार्टनर के आगे कभी झुकते हैं और ना ही कभी आपसी सहमति से रिश्तों की नींव को मज़बूत बनाने की कोशिश करते हैं। नतीजतन अहंकारवश हमसफ़र के आगे झुकने की बजाय वो किसी और से रिश्ता जोड़ना बेहतर समझते हैं।

कई बार पैसों की अधिकता तो कभी पैसों की कमी की वजह से भी एक्स्ट्रा मैरिटल अफेयर बनते हैं। पार्टनर यदि अपने जीवनसाथी की इच्छाओं को पूरा करने में आर्थिक रूप से सक्षम नहीं होता है, तो दूसरा पार्टनर अपनी इच्छाओं को पूरा करने के लिए भी किसी दूसरे की ओर आकर्षित होने लगता है, तो कुछ पार्टनर ख़ासकर पुरुष ऐसे भी होते हैं जो पैसों की अधिकता के चलते भी एक्स्ट्रा मैरिटल अफेयर का शौक़ रखते हैं।

जब आप एक पति-पत्नि से माता-पिता बनते है, तब आपकी प्राथमिकताएं बदलती है। एक मां अपने बच्चे को अपने पति से 200 प्रतिशत से ज्यादा समय देती है। इस दौरान पुरूषों में आने वाली कामुक इच्छाएं एक्स्ट्रा मैरिटल अफेयर को बढ़ावा देती है। और जब महिला मां के रूप में अपने बच्चे को समय देती है तब उसे पति से दूर रहने वाले समय का महसूस ही नहीं हो पाता।

इसे भी पढ़िए:   सेक्स की टाइमिंग से तय कीजिए कि कब आपको गर्भ धारण करना है!
Top