You are here
Home > लाइफस्टाइल > कंडोम का ज्यादा इस्तेमाल, कर देगा आपको और आपके पार्टनर को बेहाल!

कंडोम का ज्यादा इस्तेमाल, कर देगा आपको और आपके पार्टनर को बेहाल!

कंडोम का

कंडोम का ज्यादा इस्तेमाल, कर देगा आपको और आपके पार्टनर को बेहाल! एड्स और अन्य यौन संक्रमित बीमारियां आज अपने चरम पर हैं, असुरक्षित यौन संबंध बनाने वाले लोगों को इसका काफी खतरा रहता है। अनैतिक संबंध, एक से अधिक लोगों के साथ सेक्स, ओरल या एनल सेक्स के बढ़ते चलन ने यौन संक्रामक बीमारियों को फैलने का भरपूर मौका दिया है। इन बीमारियों से बचाव का एक सुरक्षित और आसान तरीका कंडोम है। लेकिन कंडोम के कई नुकसान भी है। शारीरिक संबंध बनाते समय सभी अपनी सुरक्षा का खास ध्यान रखते हैं ताकि कोई ऊंच नीच ना हो जाये। इसके लिए सभी कंडोम का इस्तेमाल करते हैं। लेकिन ज्यादा कंडोम इस्तेमाल करना स्त्री के लिए घातक हो सकता है ये बात आप नहीं जानते रहे होंगे। अगर आप यौन संबंध बनाते समय अत्यधिक कंडोम का इस्तेमाल करते है तो ये आप के लिए नुकसानदेह साबित हो सकता है।

इसे भी पढ़िए:   गांव की लड़कियां 16 साल की होने से पहले ही कर लेती हैं सेक्स! सर्वे में खुलासा

पहला नुकसान जब यौन संबंध में कंडोम ज्यादा इस्तेमाल किया जाता है तो उसके योनि में कट या घाव का खतरा भी रहता है। इसकी वजह से योनि में सूजन आ जाती है और ऐसी स्थिति में सेक्स करने पर योनि का अंदर का हिस्सा फिर से ज़ख़्मी हो जाता है।  कई बार जख्मों से रक्तस्त्राव भी होने लगता है जिसे महिलाएं असमय मासिक चक्र समझकर उसकी परवाह नहीं करती हैं और इस कारण से उन्हें जननांगों और गर्भाशय में भयंकर संक्रमण फैलने का ख़तरा हो जाता है। इससे योनि ग्रीवा या गर्भाशय में कैंसर होने का खतरा भी हो सकता है।

इसे भी पढ़िए:   अश्लील ख्यालों से कैसे बचें, जानिए कुछ अचूक तरीके

दूसरा नुकसान लेटेक्स के बने कंडोम आपको गर्भधारण और यौन-संबंध से होने वाले  रोगों से बचाते हैं लेकिन ये एलर्जी का सबसे आम कारण भी हैं और सेक्स के दौरान महिला का कामेच्छा को घटा देते हैं क्योंकि इसके इस्तेमाल से योनि में सूखापन और खुजली हो जाती है। इससे स्त्री-पुरुष के जननांगों पर गंभीर दाने निकल आते हैं। इसके अलावा कंडोम में इस्तेमाल होने वाले लेटेक्स से एलर्जी महिलाओं की सबसे बड़ी समस्या है। साथ ही कई बार विभिन्न फ्लेवर ट्राई करने के चक्कर में गंभीर एलर्जी भी देखने को मिलती है। कंडोम अगर सूट नहीं कर रहा हो तो इससे सेक्स के दौरान खुजली इत्यादि होने का डर रहता है।

इसे भी पढ़िए:   बच्चे की पैदाइश के बाद कितने वक्त बाद बनाएं पति पत्नी आपस में शारीरिक संबंध?

तीसरा नुकसान लगातार यानी हफ़्ते में दो से अधिक बार कॉन्डोम का इस्तेमाल करने से योनि की भीतरी परत और झिल्ली में संवेदनशीलता या तो कम हो जाती है या फिर पूरी ख़त्म हो जाती है। इसकी वजह से महिलाओं की योनि से निकलने वाला लुब्रिकेंट (चिकनाई युक्त) कम हो जाता है या पूरी तरह से बन्द हो जाता है। जिसके चलते योनि में खरास या सूखापन आता देखा गया है। कंडोम के अधिक उपयोग से महिलाओं को योनि के स्पर्श से ही दर्द होने लगता है। ऐसे में महिलाओं को सेक्स के वक़्त बहुत ज़्यादा तकलीफ होती है। ऐसी स्थिति से गुज़र रही महिलाओं को बिना कंडोम के सेक्स करने पर योनि में असहनीय दर्द, जलन, एलर्जी और ख़राश होती है। एक हफ्ते में 2 या उससे अधिक बार कंडोम का इस्तेमाल करने पर योनि में सूजन व दर्द की समस्या होने लगती है।

इसे भी पढ़िए:   बच्चे के व्यवहार से जानिए कि कोई उसका यौन उत्पीड़न कर रहा है!

चौथा नुकसान कंडोम अत्यधिक उपयोग योनि की प्रतिरक्षा तंत्र को कमजोर करता है. प्रकृति ने जननांगों को खुद ही अपनी प्रतिरक्षा की जन्मजात शक्ति प्रदान की लेकिन यदि सप्ताह में दो बार से अधिक कंडोम का उपयोग किया जाता है तो कंडोम योनि की प्रतिरक्षा प्रणाली को नुकसान पहुंचा सकता है। इसके उपयोग से योनि की अम्लीय वातावरण में उथल-पुथल पैदा हो जाती है।

इसे भी पढ़िए:   लड़कियां रात को बिस्तर पर जब अकेली होती हैं तो ये सब कुछ सोचती हैं! खुलासा

पांचवां नुकसान कंडोम के अधिक प्रयोग के कारण कई बार यौन संबंधित समस्याओं के होने का खतरा रहता है। ठीक तरह से कंडोम का इस्तेमाल न करने से कंडोम के अंदर रहने के खतरे भी बढ़ जाते हैं। ज्यादा टाइट या ढीला होने पर यह प्राइवेट पार्ट्स की त्वचा को नुकसान पहुंचा सकता है। क्योंकि ये बाहरी स्किन को सुरक्षित नहीं रख पाता है, जिससे खुजली और इन्फेक्शन का खतरा रहता है।

इसे भी पढ़िए:   पीरियड के दिनों में यौन संबंध बनाना है फायदे का सौदा! रिसर्च

छठवां नुकसान कंडोम यूं तो अनचाहे गर्भ से पूरी तरह सुरक्षा प्रदान करता है लेकिन अगर यह अंदर फट जाए या लीक हो जाए तो गर्भ ठहरने की समस्या हो सकती है। कई बार अधिक गीलेपन के कारण यह फिसल भी जाता है और उन पलों के आनंद को कम कर देता है। इंटरकोर्स से पहले कंडोम पहनते समय ध्यान बंट जाता और आनंद कम हो जाता है। कई पुरुषों को शिकायत होती है कि वह कंडोम पहनने की प्रकिया के दौरान स्खलित हो जाते हैं।

इसे भी पढ़िए:   ब्वॉयफ्रैंड के साथ पहली बार शारीरिक संबंध बनाने पर क्या सोचती हैं लड़कियां!

सातवां नुकसान अमेरिका के कुछ डॉक्टरों का यह भी दावा है कि पुरुषों में इस्‍तेमाल किए जाने वाले कंडोम से महिला में कुछ गंभीर बीमारी होने का खतरा हो सकता है। बता दें कि कंडोम पर पाउडर और लुब्रिकेंट का इस्तेमाल किया जाता है। कई अध्ययन के अनुसार इस पाउडर से ओवेरियन कैंसर का खतरा होता है और बांझपन का भी खतरा होने का अंदेशा रहता है।

Leave a Reply

Top