You are here
Home > ज्योतिष > शरीर और दिमाग दोनों के उत्सव का परिणाम होता है सेक्स, चर्च की पत्रिका ने लिखा!

शरीर और दिमाग दोनों के उत्सव का परिणाम होता है सेक्स, चर्च की पत्रिका ने लिखा!

शरीर

शरीर और दिमाग दोनों के उत्सव का परिणाम होता है सेक्स, चर्च की पत्रिका ने लिखा! लोगों को सेक्स के बारे में बात करना अच्छा नहीं लगता है वो भी पब्लिकली। ये बात अलग है कि लोग इसे करना चाहते हैं। अभी तक सेक्स और आध्यात्म को अलग अलग नज़रों से देखा जाता था। धर्म में आध्यात्म को मनुष्य की मूल आवश्यकता के रूप में माना जाता है। वहीं सेक्स को भोग की दृष्टि से देखा जाता है। यानि सेक्स महज शारीरिक संतुष्टि की क्रिया है। इसका आध्यात्म से कोई संबंध नहीं है।

इसे भी पढ़िए:   ब्रेस्ट कैंसर को जानिए ज्योतिष से, किसकी कुंडली में होता है ये योग!

लेकिन अब असल बवाव इसी बात पर उठा है कि धार्मिक संस्था ने ही सेक्स को आध्यात्म से ज्यादा तवज्जो दे दी है। ये हम नहीं कह रहे हैं बल्कि कोच्चि में एक चर्च ने विवादास्पद लेख छापकर नए विवाद को जन्म दे दिया है। लेख आलप्पुझा बिशप की मासिक पत्रिका में ‘रेथियुवम आयुर्वेदम’ (सेक्स और आयुर्वेद) शीर्षक के नाम से छपे लेख में बताया गया है कि सेक्स मस्तिष्क और शरीर का उत्सव है। सेक्स के बिना जीवन अधूरा है। दो शरीर जब जुड़ना चाहते हैं तो दोनों के मन को भी मिल जाना चाहिए। इस लेख को डॉ. संतोष थॉमस ने लिखा है।

इसे भी पढ़िए:   लिपस्टिक के कलर से जानिए आपके पार्टनर को कैसा सेक्स पसंद है!

महिलाओं पर विवादास्पद लेख

इस लेख में महिलाओं को लेकर विवादास्पद लेख लिखा गया है। लेख में आदर्श महिला का वर्णन करते हुए बताया गया है कि महिला को स्तन के आधार पर चार वर्गों में बांटा गया है चित्रिणी, संघिनी, पद्मिनी और हस्तिनी।

इसे भी पढ़िए:   गर्लफ्रैंड का पैर देख कर जानिए कि अब तक कितने लोगों से उसने बनाए हैं संबंध!

एडिटर का कहना है

आलप्पुझा बिशप के एडिटर जेवियर कुड्यामेश्रे ने इस विवादास्पद लेख को जायज ठहराया है। उन्होंने कहा कि पत्रिका में पहली बार कामशास्त्र से जुड़ा कोई लेख प्रकाशित किया गया है। लेख स्वस्थ जीवन से जुड़ा है और इसमें कोई बुराई नही है। ये लेख लिखने वाले डॉक्टर पहले भी पत्रिका के लिए लिखते रहे हैं। यह लेख ज्ञानवर्धक है और इसमें कुछ भी गलत नहीं है। सेक्स जीवन का अभिन्न हिस्सा है और अच्छे जीवन की ओर प्रेरित करता है।

Top